kredit card companiyaan ab kisi bhi mobile phone se gair-sampark bhugataan card jodne ke liye bhugataan samaadhaan talaash rahi hain. ek vaahak samaadhaan jo is udyog ki jaroorat ko poora kare ab upalabdh hai. 3mm se kam mota, yeh up-card 2 varshon tak apne paryaavaran ko jhel sakega aur ek baar daale jaane ke baad yeh tatvon se rakshit aur vaahak mein surakshit rahega.[10]
अमेरिका की प्रबंधन पत्रिका हार्वर्ड बिजनस रिव्यू में कल प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि भारत में सरकार की अगुवाई में डिजिटल उठा-पटक की एक अनोखी कहानी कही जा रही है और वहां डिजिटल रूप से सशक्त समाज का निर्माण किया जा रहा है।‘कैसे भारत पहली डिजिटल अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ रहा है’ शीर्षक से लिखे लेख में कहा गया है, “भारत ने इसकी चुनौतियों को कम करने के लिए डिजिटल प्रक्रिया को धीमा करने के बजाए विपरीत दृष्टिकोण अपनाया है और डिजिटल प्रक्रिया को तेज कर दिया है ताकि देश आर्थिक एवं सामाजिक क्षेत्र में समावेशी विकास हासिल करने की पूरी संभावनाओं का लाभ उठा सके।
prativedan ke liye engineer digital system ke prakaaron par vichaar karte hain. adhikaansh digital system "sanyojan system" aur "anukramik system" mein vibhaajit ho jaate hain. sanyojan pranaali mein hamesha jo input diya jaata hai vahi aautaput vah deta hai. yeh mool roop se laujik prakriya ke set ka pratinidhitv karta hai aur jiski charcha pehle hi ki ja chuki hai.

ubots

×